बस से कुचलकर छात्रा की मौत

बस से कुचलकर छात्रा की मौत

बस से कुचलकर छात्रा की मौत

मृतका शिवानी सोनी (फाइल फोटो)

क्राइम रिपोर्टर| अजमेर

परबतपुराचौराहे पर मंगलवार को ह्रदय विदारक हादसे में बस से कुचलकर महिला इंजीनियरिंग कालेज की छात्रा की मौत हो गई। मृतका ब्यावर की निवासी थी, वह रोजाना की तरह मंगलवार को भी ब्यावर से कालेज के लिए रोडवेज बस में बैठकर आई थी। परबतपुरा चौराहे पर वह बस से उतरी थी, बस के आगे से वह सड़क क्रॉस करने की कोशिश कर रही थी इस दौरान बस की चपेट में गई। मंगलवार सुबह हुए इस दर्दनाक हादसे की सूचना मिलते ही इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्रों में रोष व्याप्त हो गया। छात्र-छात्राओं ने चौराहे पर जाम लगा दिया। पुलिस ने समझाइश कर प्रदर्शनकारियों को शांत किया और शव जेएलएन अस्पताल पहुंचा दिया। पुलिस ने रोडवेज बस को जब्त कर लिया और चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। पुलिस के अनुसार मंगलवार सुबह महिला इंजीनियरिंग कॉलेज प्रथम वर्ष, कम्प्यूटर इंजीनियरिंग की छात्रा गीता भवन, खन्ना कॉलोनी, ब्यावर निवासी गणपत लाल सोनी की 19 वर्षीया पुत्री शिवानी रोडवेज बस में सवार होकर ब्यावर से अजमेर आई थी। वह परबतपुरा चौराहे पर बस से उतरी थी। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार शिवानी जब बस से उतरकर बस के आगे से गुजरी तो अचानक बस के चालक ने बस चला दी। शिवानी बस के खलासी साइड वाले पहिए के नीचे कुचल गई, उसकी मौके पर ही मौत हो गई। घटना के बाद बस का चालक कंडक्टर दोनों घबरा गए और बस छोड़कर भाग छूटे। लोगों की भीड़ जमा हो गई।

समझाइशकर खुलवाया जाम : इंजीनियरिंगकॉलेज के विद्यार्थी मौके पर पहुंच गए। छात्रों ने रास्ता जाम कर प्रदर्शन किया। बाद में पुलिस ने समझाइश करके जाम खुलवाया। प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार बाईपास पुलिया के नीचे ब्यावर की ओर से आने वाली सड़क गुजरती है, इसी जगह पर डिवाइडर भी बना हुआ है। शिवानी ने बस से उतरने के लिए जल्दबाजी में शॉर्टकट अपनाया तथा डिवाइडर पार कर दूसरी ओर जाने की गलती कर बैठी। पुलिस ने शिवानी के परिजन की शिकायत पर रोडवेज से अनुबंधित बस के चालक के खिलाफ मुकदमा दर्ज करके बस को सीज कर लिया।

दुर्घटनाएंरोकने के लिए जरूरी है स्पीड ब्रेकर : मानवाधिकारपरिषद के प्रदेशाध्यक्ष शैलेष गुप्ता ने राजकीय इंजीनियरिंग कॉलेज के गेट के बाहर स्पीड ब्रेकर बनाने की मांग की। गुप्ता ने बताया कि आज कॉलेज की छात्रा की बस से कुचलने से मौत हो गई। कॉलेज के बाहर स्पीड ब्रेकर नहीं होने से पूर्व में भी छात्राएं दुर्घटना का शिकार होकर काल का ग्रास बन चुकी है। स्पीड ब्रेकर बनाने की पूर्व में भी मांग की गई थी, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई। कॉलेज के बाहर सदैव भारी वाहनों की आवाजाही बनी रहती है। मुख्य रोड पर कॉलेज होने से दुर्घटनाएं होती रहती हैं। यहां स्पीड ब्रेकर बनेंगे तो दुर्घटना पर अंकुश लग सकता है।

Categories: Beawar, Breaking News

About Author

Hemendra Soni

M.D. & Chief Editor of BeawarDailyNews.com

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

eleven + twenty =

*