विधायक शंकर सिंह रावत ने दिया सात दिन का अल्टीमेटम

विधायक शंकर सिंह रावत ने दिया सात दिन का अल्टीमेटम

BDN
विधायक शंकर सिंह रावत ने दिया सात दिन का अल्टीमेटम
एक बार फिर उठी ब्यावर को जिला बनाने व गोशाला की 86 बीघा बेशकीमती जमीन भूमाफियाओं के चंगुल से मुक्त कराने की मांग

विधायक ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के नाम एक पत्र जारी कर ब्यावर विधानसभा क्षेत्र की विभिन्न समस्याओं का सात दिवस में समाधान करने की मांग की अन्यथा धरना प्रदर्शन किया जाएगा ।
ब्यावर विधानसभा क्षेत्र की विभिन्न समस्या जिसमें जस्सा खेड़ा से दूधालेश्वर मंदिर तक जाने वाली सड़क की वर्तमान स्थिति बहुत ही खराब है यह सड़क पाली और अजमेर जिले को जोड़ती है तथा टॉडगढ़ उपखंड की प्रमुख सड़क है इसका एस्टीमेट पूर्व में सरकार को भिजवाया जा चुका है तथा जस्सा खेड़ा से दुधालेश्वर महादेव तक 23 किलोमीटर सड़क को 7 मीटर चौड़ा किया जाने की मांग की है, एवं ब्यावर से देवाता वाया कोटडा काबरा सड़क जो कि ब्यावर से कोटडा तक मेगा हाईवे बना हुआ है परंतु अभी तक सड़क के चौड़ाईकरण का कार्य पूर्ण नहीं हुआ है तथा कोटडा से देवाता तक की सड़क की हालत बहुत खराब है जिससे आम लोगों को भारी परेशानी हो रही है इस कार्य को प्राथमिकता से कराने की मांग की है ।
बामन हेड़ा गाफा चौराहा से सरूपा तक 7 किलोमीटर एवं दुधालेश्वर चौराहे से जाम्बुडा तक 3 किलोमीटर सड़क का डामरीकरण किया जाने की मांग की ।
रोडवेज बस स्टैंड सात पुलिया बाईपास अजमेर रोड 6 लाइन मेगा हाईवे के अधूरे कार्य को पूरा कराये जाने की मांग की । लंबे समय से ब्यावर में मेडिकल कॉलेज खोले जाने की आवश्यकता को देखते हुए इसके जल्द खोलने की मांग की ।
अमृतकौर चिकित्सालय सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र जवाजा व टॉडगढ़ तथा क्षेत्र के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों पर चिकित्सक एवं अन्य स्टाफ लगाया जाए । गौशाला की 86 बीघा बेशकीमती जमीन को भूमाफिया के चंगुल से मुक्त कराया जाए । ब्यावर विधानसभा क्षेत्र के 199 गांव सहित ढाणियों नजरों में बीसलपुर का पेयजल उपलब्ध कराया जाए, साथ ही ब्यावर उपखंड के लिए आवश्यक 40 एमएलडी पूरा पानी दिया जाए ताकि ब्यावर की आवश्यकता पूरी हो सके वर्तमान में बहुत कम सप्लाई आ रही है ।
कोरोना महामारी के दौरान नरेगा में मजदूरों की संख्या में बढ़ोतरी हुई परंतु उन की दैनिक मजदूरी ₹70 के आसपास ही आती है यह मजदूरों के साथ घोर अन्याय है जबकि केंद्र सरकार द्वारा नरेगा मजदूरों की दैनिक मजदूरी ₹202 तय कर रखी है लेकिन यहा ₹70 ही क्यों दी जा रही है इसकी जांच कराकर पूरी पूरी मजदूरी दी जाए ।
रातानाडा फीडर सूरे घाटा फीडर चुलियादेह फीडर देवाता फीडर के पानी को फुल सागर बांध भरने हेतु ट्रिपल आर योजना में काम करने हेतु प्लान केंद्र सरकार के पास भेजा जाए एवं ब्यावर को जिला बनाया जाए ।

Categories: Beawar, Breaking News

About Author

Hemendra Soni

M.D. & Chief Editor of BeawarDailyNews.com

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

four × five =

*