बैंक कर्मचारी करने लगे पक्षपात

बैंक कर्मचारी करने लगे पक्षपात

BDN:-
बैंक कर्मचारी करने लगे पक्षपात:-
बेंको में नोट बंदी के बाद नोट बदलवाने और जमा करवाने में शुरूआती दिनों तक तो सब ठीक चल रहा था, बैंको के कर्मचारी आम आदमी की पूरी मदद कर रहे थे लेकिन ज्यो ज्यो दिन बीतने लगे बैंक कर्मियो के व्यवहार और कार्य की अलग अलग तरह की बाते सामने आनी शुरू हो गई ।
बैंक कर्मचारियों द्वारा पिछले रास्तो और खिड़कियो के माध्यम से परिचितों को लाभ पहुचाना शुरू कर दिया हे ।
आम आदमी सुबह जल्दी अँधेरे अँधेरे में ही भूखा प्यासा लाइन में खड़ा हे बड़ी मुश्किल से 4/5 घंटे में जब नंबर आता हे तो बैंक वाले यह कह के टरका देते हे की पैसे ख़त्म हो गए । बेचारा आम आदमी मन मसोस कर छोटा सा मुंह लेकर बैंक कर्मियो को कोसते हुए अपनी तक़दीर मान कर थक हार कर वापस चला जाता हे अगले दिन फिर आने के लिए लाइन में लगने के लिए ।
लेकिन उधर बैंक कर्मचारी अपने परिचितो को उपकृत करने का कार्य कर रहे हे उन्हें बैंक समय के पश्चात भी पैसे उपलब्ध कराये जा रहे हे और उनकी जमाये भी स्वीकार की जा रही हे । यह सब क्यों किया जा रहा हे पता नहीं जबकि बैंक के लिए सभी ग्राहक सामान हे, तो फिर परिचितों और प्रभावशाली लोगो को उपकृत करने के पीछे क्या कारण हे कोई अन्य दबाव हे? भय हे ? या गांधी जी हे ? ये तो वाही बता सकते हे ।
पिछले दिनों में अखबारो में और सोशियल मीडिया पे ऐसे अनेक वीडियो और तस्वीरें सामने आई हे जीसमे बैंक कर्मचारी बेक डोर से या खिड़की से लेन देन करते पाये गए हे ।
ऐसे बैंक कर्मचारी जो आम आदमी के इस मुसीबत के समय काम आने के बजाय इस तरह की धांधली में लिप्त हो रहे हे और उनके फोटो और वीडियो वाइरल हो रहे हे फिर भी उनका जमीर नहीं जग रहा हे ।
सभी बैंक कर्मियो से कहना हे की आप जिस ईमानदारी और मेहनत और लगन से आपने नोट बंदी के शुरूआती दिनों में जिस कर्तव्य निष्ठा और लगन से दिन रात एक करके कार्य किया जिसके लिए सोशियल मीडिया में आपके तारीफों के पुल बांधे गए और आपको सर आँखों पे बिठाया गया आप अपनी वो छवि धूमिल ना होने दे और गरीब असहाय, जरुरत मंद आम जनता के हितो को ध्यान में रख कर ईमानदारी से अपना कार्य करे और देश के इस आर्थिक सर्जिकल स्ट्राइक के समय अपना योगदान देश हित में दे, टेक्स चोरी करके बने धन्ना सेठो और काला धन वालो को सबक सिखाने के लिए अपना योगदान दे, देश आपका यह कभी भी योगदान भुला नहीं पायेगा ।
हेमेन्द्र सोनी @ BDN ब्यावर

About Author

Hemendra Soni

M.D. & Chief Editor of BeawarDailyNews.com

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

five × 3 =

*