अस्पताल की शांति व्यवस्था, सुरक्षा ओर सफाई व्यवस्था खतरे में

अस्पताल की शांति व्यवस्था, सुरक्षा ओर सफाई व्यवस्था खतरे में

BDN

अस्पताल की शांति व्यवस्था, सुरक्षा ओर सफाई व्यवस्था खतरे में
अस्पताल में आये दिन विभिन्न संस्थाएं अपना प्रचार करने के लिए , ओर कुछ सामाजिक और अन्य NGO संगठन सेवा के उद्देश्य से किसी ना किसी की जयंती, या अन्य कोई प्रसंग होने पर अस्पताल में मरीजो को फल, फ्रूट, बिस्किट या अन्य सामग्री बाटने के लिए संस्थाओं की टीम अपने दल बल के साथ भारी संख्या में अस्पताल में उपरोक्त सामान बाटने के लिए एक वार्ड से दूसरे वार्ड में घूमते हुए और तेज तेज आवाज में बाते करते हुए हल्ला मचाते हुए घूमते रहते है, जिससे मरीजो को अनावश्यक शोर गुल का सामना करना पड़ता है ।
अभी कुछ दिन पहले देखा गया कि एक संस्था ने सामान मरीजो को वितरण करने के लिए भारी संख्या में महिलाओं और पुरुषों सहित अस्पताल में गाते हुए पहुच गए जिसका वीडियो सोशियल मीडिया पर खूब चला था ।
इस कारण मरीजो को मानसिक पीड़ा से भी गुजरना पड़ता है, जबकि अस्पताल में शांति व्यवस्था प्रथम बिंदु है ।
जबकि अस्पताल मे शांति बनाने के लिए मरीज के परिजनों को मरीज की तीमारदारी के लिए मात्र 2 पास जारी किए जाते है । अधिक संख्या में अस्पताल में बाहर का आदमी आने पर साफ सफाई पर भी बुरा असर पड़ता है ।
इसके लिए अस्पताल प्रशासन एक पॉलिसी बनाये ओर केवल 5 सदस्यो को ही वार्ड में उपरोक्त सामान वितरण करने के लिए अनुमति दे ना कि झुंड के झुंड को । इस पर सख्ती से अमल होना भी चाहिए । इससे अस्पताल में शांति बनी रहेगी ।
मरीजो को दिए जाने वाले उपरोक्त आइटम मरीज तो कम और उनके रिश्तेदार ज्यादा खाते या उपयोग करते हुए नजर आते है और खाने के बाद उनके द्वारा अस्पताल के विभिन्न कोनो में उनके छिलके ओर दूसरा कचरा फेक दिया जाता है, जिससे अस्पताल में संक्रमण फैलने का खतरा उत्पन्न हो सकता है ।
इसके लिए यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि कचरा निर्धारित पात्र में ही डाला जाए ।
उपरोक्त सामान बाटने के लिए अस्पताल में जो मरीजो के मिलने का समय होता है उसी दौरान उन्हें अनुमति दी जाय । जिससे आउट डोर एवं वार्ड में व्यवस्था ना बिगड़े ।
अस्पताल में शांति और व्यवस्था बनी रहेगी
हेमेन्द्र सोनी @ BDN जिला ब्यावर

About Author

Hemendra Soni

M.D. & Chief Editor of BeawarDailyNews.com

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

2 × 5 =

*