राहुल बोले- हमें कांग्रेसी ही हरा रहे, गुटबाजी खत्म करो

राहुल बोले- हमें कांग्रेसी ही हरा रहे, गुटबाजी खत्म करो
श्रीगंगानगर. ‘राहुल जी, आप सबसे पहले कांग्रेस में गुटबाजी खत्म करवाओ। प्रदेश स्तर पर गुटबाजी है, जिलास्तर पर तो और भी ज्यादा है। चुनाव में हमें भाजपा वालों से कम और कांग्रेसजनों से ही ज्यादा डर लगता है। कई चुनावों में तो अपनों ने ही कांग्रेस को हराया है।’ श्रीगंगानगर-हनुमानगढ़ दौरे पर आए राहुल गांधी सूरतगढ़ में जब दोनों जिलों के पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों से रूबरू हुए तो नेताओं ने यह विचार रखे। इस पर एकबारगी तो राहुल समेत सब नेता सन्न रह गए।
कांग्रेसी नेताओं ने यहां तक कह दिया कि जब तक सब कांग्रेसी एक मंच पर नहीं आएंगे, हालात सुधर नहीं सकते। राहुल गुटबाजी पर कुछ नहीं बोले, अलबत्ता उन्होंने यह कहकर मामला शांत किया कि उन्होंने हाल ही पूर्व मंत्रियों, पूर्व विधायकों व बड़े नेताओं के साथ बैठकें करने का सिलसिला शुरू किया है। इसी के तहत यहां बैठक हो रही है, ताकि हर समस्या सामने आ सके। फीडबैक के लिए 20 नेताओं को बुलाया गया था, लेकिन सात नेता ही बोल पाए।
हार और संगठन चुनाव पर बोले राहुल
हार पर : चुनाव में भाजपा ने सीलिंग का मुद्दा जोर-शोर से उठाया। भाजपा ने दुष्प्रचार किया कि कांग्रेस सत्ता में आई तो सीलिंग करके किसान की भूमि को कम कर दिया जाएगा। इस बिल का ड्राफ्ट जयराम रमेश ने तैयार किया था, जो हमारे लिए घातक साबित हुआ।
राहुल बोले- यह हमारी कमजोरी रही कि हम विरोधियों के दुष्प्रचार का जवाब नहीं दे पाए। इस पर भविष्य में ध्यान रखेंगे।
संगठन पर : एनएसयूआई व यूथ कांग्रेस के जब से चुनाव शुरू हुए हैं, तब से धन-बल के प्रभाव पर नेता जीतने लगे हैं। उनका कांग्रेस से जुड़ाव न के बराबर होता है। इस प्रणाली का यह नुकसान हुआ कि कार्यकर्ताओं में कांग्रेस के प्रति मोह भंग हो रहा है।
राहुल बोले- पार्टी इस पर विचार करके जल्दी फैसला लेगी।
भाषणों से कांग्रेसजनों को कड़े संदेश दे गए
> केंद्र व राज्य सरकार हमें रोज एक मुद्दा दे रही है। जरूरत है इसे भुनाने की। कार्यकर्ता को यह बात आम व्यक्ति को समझानी होगी। भूमि अधिग्रहण बिल की देशभर में खिलाफत इसका उदाहरण है।
> साढ़े तीन साल कांग्रेस के एक-एक कार्यकर्ता को आम व्यक्ति के साथ खड़े रहना है। उसके लिए संघर्ष करना है। जो कार्यकर्ता आम व्यक्ति के साथ रहेगा। वही व्यक्ति अगले चुनाव में टिकट का दावेदार होगा। बाकियों के आवेदन पर विचार नहीं होगा।

About Author

Hemendra Soni

M.D. & Chief Editor of BeawarDailyNews.com

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*

3 + 11 =

*